आंगनवाड़ी न्यूज़आदेश जिला PDFश्रावस्ती

शादी अनुदान का आंगनवाड़ी करेंगी प्रचार, चिपकाएंगी पोस्टर

आंगनवाड़ी न्यूज

उत्तरप्रदेश शासन द्वारा गरीब परिवार की बेटियों की शादी के लिए अब आंगनवाड़ी वर्करों की मदद ली जायेगी। इसके लिए आंगनवाड़ी कार्यकत्री को अपने अपने क्षेत्र से कम से कम दो बेटियों का नाम भेजना होगा।इस संबंध में जिले के डीपीओ ने आदेश जारी किए है।

श्रावस्ती जनपद के डीपीओ द्वारा जारी आदेश मे कहा गया है कि आंगनवाड़ी वर्करों को प्रदेश सरकार की शादी अनुदान योजना का प्रचार प्रसार करते हुए अपने क्षेत्र से दो बेटियों का चयन करना है । और चयनित बेटियो के फोटो पोर्टल पर भेजे जाए।उत्तरप्रदेश सरकार गरीब बेटियो को शादी अनुदान योजना के तहत 20 हजार रुपए की आर्थिक मदद करती है।

इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन लिए जाते है इस योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को शादी का कार्ड,बैंक की पासबुक और फोटो को अपलोड किया जाता है। आवेदन को सत्यापित करने के बाद लाभार्थी के खाते मे 20 हजार रुपए की आर्थिक धनराशि बैंक में भेज दी जाती है।

शादी अनुदान योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी की वार्षिक आय ग्रामीण क्षेत्र में 46080.00 और शहरी क्षेत्रों मे 56460.0 से अधिक नही होनी चाहिए। लाभार्थी को अति पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) अल्प संख्यक को छोड़कर की श्रेणी में होना अनिवार्य है।

जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा जारी आदेश के अनुसार आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों को अपने क्षेत्र में शादी अनुदान योजना का प्रचार करने के लिए पोस्टर या पैंपलेट को अपने आंगनवाड़ी केंद्र पर चिपकाना है। साथ ही अपने क्षेत्र से कम से कम दो लाभार्थियों का नाम पूर्ण विवरण सहित भेजना है।

इस योजना का प्रचार सुपरवाइजर और आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा किया जायेगा। आंगनवाड़ी वर्कर को अपने केंद्र पर इस योजना का पोस्टर या पैंपलेट चस्पा कर कम से कम दो बेटियों का आवेदन कराना अनिवार्य है

आदेश की कॉपी देखने के लिए क्लिक करे

Aanganwadi Uttarpradesh

आंगनवाड़ी उत्तरप्रदेश एक गैर सरकारी न्यूज वेबसाइट हैं जिसका मुख्य उद्देश्य केंद्र सरकार द्वारा संचालित बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के अंतर्गत कार्यरत कर्मचारियों की गतिविधियों ,सेवाओ एवं निदेशालय द्वारा जारी आदेश की सूचना प्रदान करना है यह एक गैर सरकारी वेबसाइट है और आंगनवाड़ी उत्तरप्रदेश द्वारा डाली गई सूचना एवं न्यूज़ विभाग द्वारा जारी किए गए आदेशों पर निर्भर होती है वेबसाइट पर डाली गई सूचना के लिए कई लोगो द्वारा गठित टीम कार्य करती है

Related Articles

One Comment

  1. મારું નામ …. … છે.હાલ હું 14 વર્ષ (2010)થી આંગણવાડીની અંદર વર્કર તરીકે મારી ફરજ બજાવુ છું. જ્યારે પ્રમોશન માટે ની વાત કરું તો હાલ ની તકે ગુજરાત ના તમામ જિલ્લા ની અંદર શ્રેયાક્યાદી પ્રમાણે ICDS ની અંદર મુખ્યસેવિકા નું પ્રમોશન તરીકે નામ સિલેક કરવા માં આવે છે.પણ હાલ ગુજરાત ના અમરેલી જિલ્લા માં હાલ 2011 બાદ મુખ્યસેવિકા તરીકે નું કોઈ ને પ્રમોશન આપવામાં આવેલ નથી. હરેક સમયે શ્રેયાક્યાદિ બનેછે.કોઈ વાદવિવાદ નાં કારણે આંગણવાડી વર્કર ને પ્રમોશન માંથી વંચિત રાખવામાં આવે છે.અને ઓછા પગાર માં નોકરી કરનાર બેન જે 9:30થી3:30 સુધી નોકરી નો ટાઈમ ભરેછે. કારણ કે તે ને આશા છે. કે તે 10વર્ષ પછી તેને મુખ્યસેવિકાનું પ્રમોશન તરીકે તેને પદ મળે તે આશામાં ઓછા પગાર ધોરણે નોકરી કરે છે.હાલ શિક્ષકો જેટલો આંગણવાડી વર્કર ટાઈમ ભારે છે. છતાં શિક્ષકો કરતા 7 ગણો પગાર ઓછો, નથી મેડિકલ,નથી પીએફ, નથી હરેક તહેવાર ની રજા, અને જેની આશા માં તે નોકરી કરે છે. તેમાં નથી મળતું પ્રમોશન, બસ એટલુંજ મારો પ્રશ્ન ધ્યાનથી લેવા વિનંતી અસ્તુ, જય ભારત,

error: Content is protected !!